शनिवार, 30 जून 2018

श्रेष्ठ हिंदी हाइकु : जून माह

श्रेष्ठ हिंदी हाइकु - जून माह

रात अंधेरी
अँधेरे में रोशनी
करे तलाश
       शिव डोयले
वश न चला '
विवशता बरसी  .
नैनों की राह
        -सुरंगमा यादव
पडी फुहार
धरा पर बिखरा
नभ का प्यार
        -सुरंगमा यादव
पुष्प कमल
नारी का अंतर्मन
शीश महल
        सूर्य करण 'सरोज'
कैसा दस्तूर
बेगाने नज़दीक
अपने दूर
        -बलजीत सिंह
खुद कमाना
बस दो जून रोटी
रिश्ता पुराना
       -इंद्र कुमार दीक्षित
पानी है खून
जंग का जुनून
भूखी बंदूक
     -सुशील शर्मा
रंक की भूख
आंसू सहेज कर
पी गई दुख
    -सूर्य किरण 'सरोज'
कच्चा मकान
पसर गई नींद
मूंज की खाट
       -पुष्पा सिन्धी
प्रत्येक पौधा
पर्यावरण हेतु
बना है योद्धा
        -बलजीत सिंह
पुरवा आई
चन्दन बन से वो
खुशबू लाई
       -सूर्य नारायण गुप्त 'सूर्य'
लाचार बूढा
भर के गुब्बारों में
बेचता साँसें
        -राजीव गोयल
मन की पूंजी
प्रसन्नता की कुंजी
प्रेम सर्वस्व
       -सुरंगमा यादव
धूप मार्ग में
तपन का जुलूस
छाँव रक्षक
      नरेन्द्र श्रीवास्तव
वृक्षारोपण
नव वस्त्रों से खुश
पर्यावरण
       सूर्य कारन 'सरोज'
प्रकृति रोती
धूल धुआं कचरा
जलती छाती
       -रमेश कुमार सोनी
धरा विन्यास
हरित आवरण
जग उल्लास
       सुरंगमा यादव
एक जंगल
मुट्ठीभर पादप
असंख्य साँसें
       सुशील शर्मा
पिघली बर्फ
झुकता हिमालय
जल संकट
      -डा. रंजना वर्मा
झील में चाँद
नहाया रातभर
तर-ओ-ताज़ा
      -भीम प्रसाद प्रजापतिं
डाली का फूल
नाजुक सी ज़िंदगी
करे कबूल
      -बलजीत सिंह
बोई जो नींद
अंखियों के गमले
उगे सपने
      -राजीव गोयल
अनाथ बच्ची
लावारिस घूमती
कटी पतंग
       -विष्णु प्रिय पाठक
बांह पसार
मेघों की मनुहार
करते वृक्ष
      -सुरंगमा यादव
बंजारा मन
जाएगा किस ओर
कोई न जाने
       -सुरंगमा यादव
मंद हवा सी
छू लूं चुपचाप
रूप तुम्हारा
       -सुरंगमा यादव
रात ने फोडी
सियाही की मटकी
धरा बेरंग
      -राजीव गोयल
लापरवाही
कागज़ न कलम
खरीदी स्याही
       बलजीत सिंह
झूमते वृक्ष
इठलाती बारिश
नहाता पानी
       सुशील शर्मा
आषाढी आस
कृषक स्वप्न बोता
बेटी का गौना
        पुष्पा सिन्धी
सघन वन
डोल रही पवन
बजे झांझर
      डा. रंजना वर्मा
जुगल बंदी
-----------
हवा का झूला
झूल रही ज़िंदगी
पतली डोर
   डा. रंजना वर्मा
साँसों की लय
चलती रहे यूँ ही
कहे पवन
       सुरंगमा यादव
--------------
सूखी खेतियाँ
बह चला आँखों से
एक दरिया
       -राजीव गोयल
प्राथमिक हो
दायित्व का निर्वाह
वास्तविक हो
        -निगम 'राज़'
तोड़ता बाँध
लहरों का उछाल
पूरा है चाँद
        -राजीव गोयल
पिता का नाम
आता ताउम्र काम
उसे सलाम
      -निगम 'राज़'
नि:शब्द हूँ मैं
पितृ दिवस आज
पापा कहाँ हैं ?
       -पुष्पा सिन्धी
पिता का होना
सूरज का उजाला
चाँदनीं रातें
       नरेन्द्र श्रीवास्तव
लड़ाई में भी
अपनी औलाद से
हारते पिता
      -शिव डोयले
हर सांस पे
पिता का हस्ताक्षर
भूलें तो कैसे ?
       -सुरंगमा यादव
सुमन खिला
उपवन महका
छू गई हवा
       -डा. रंजना वर्मा
आवागमन
श्वास-प्रियतमा का
यही जीवन
      निगम 'राज़'
मन बैसाख
सावन सी बरसी
प्रेम फुहार
      -सुरंगमा यादव
चाँद बुनता
चांदनी की चूनर
ओढ़ती धरा
      -राजीव गोयल
बरसो मेघ
फट रही बिवाई
धरा के पैर
       -राजीव गोयल
निशा विहंसी
गगन पर बिखरे
रजत पुष्प
       सुरंगमा यादव
भागते रहे
अपने परायों से
कभी खुद से
      सुरंगमा यादव
अतिविस्तृत
खगों का कर्म क्षेत्र
नभ असीम
       -डा. रंजना श्रीवास्तव
चन्द्र प्रकाश
देती रही मन को
ठण्ड मिठास
       -बी पी प्रजापति
पहली वर्षा
चीटीं बनाने लगीं
अपना घर
      विष्णु प्रिय पाठक
तुम्हारे बिन
पतझड़ का वृक्ष
मेरा जीवन
      -सुरंगमा यादव
धर दबोचें
भागते सपनों को
जिद के हाथ
       -अभिषेक जैन
ईंगुर गोली
वर्षा की हमजोली
बीरबहूटी
       -डा. रंजना वर्मा
बीमार दादा
मरम्मत न हुआ
जर्जर छाता
        -पुष्पा सिन्धी
बरखा रानी
पात पात बिखरीं
हीरे की कनीं
       -सुरंगमा यादव
कबीर मन
कभी बाहर खड़ा
कभी अंतस
       -सुशील शर्मा
वक्त की गर्द
आँगन में पसरी
बंद मकान
       -डा. राजीव गोयल
ढलता रवि
उफ़क पे बिखेरे
अनूठे रंग
       (हाइगा) -डा. राजीव गोयल
जुगलबंदी
---------
प्यासी नदिया
समंदर किनारे
भाग्य कोसती
       शिव डोयले
प्यासी नदिया
मेघ बरसने की
बात जोहती
      डा. राजीव गोयल
-------------
यादों का देश
भटकता फिरता
एकाकी मन
      -सुरंगमा यादव
मुग्ध वल्लरी
सावन की डोकरी
जादूगरनी
      -पुष्पा सिंघी
आँखों ने देखे
बारिश के सपने
फिसले पैर
        डा. राजीव गोयल
     












     








रविवार, 3 जून 2018

श्रेष्ठ हिन्दी हाइकु - मई माह

श्रेष्ठ हिन्दी हाइकु - मई माह

तारा भू टूटा
रहा कोई खड़ा
चोटी पे सदा
      राजीव गोयल
थका बटोही
आम्र कुंजों ने थामीं
स्वेद की बूँदें
        -रमेश कुमार सोनी
चाँद ले आया
सपनों की गठरी
नींद ले उड़ी
     -नरेंद्र श्रीवास्तव
चीख न सुनी
अंधे बहरे गूंगे
गुज़रे लोग
      -नरेन्द्र श्रीवास्तव
जलते रिश्ते
प्यार की छाँव ढूँढे
बेचैन मन
         -सुरंगमा यादव
जीत के जंग
लौटे बस शरीर
ज़िंदगी हारी
         -राजीव गोप्यल
प्रेम में पगी
यादों की सोनपत्ती
सूखी भी हरी
       -रमेश कुमार सोनी
गंध रोटी की
बज रहे कंगन
किताब बंद
       -तुकाराम खिल्लारे
नीयत सच्ची
मेहनत की रोटी
लगती अच्छी
       बलजीत सिंह
सूना पिंजरा
पंछी क्षितिज पर
स्मृति-अम्बार \ 
       -पुष्पा सिन्धी
मेरे मन को
बहका के ले जाती
बहकी हवा
        -अमन चांदपुरी
धान लगाती
ढेर सारी गोपियाँ
कजरी गातीं
        -अमन चाँदपुरी
श्रम से रोज़
करती गिलहरी
दानों की खोज
      -सूर्य करण 'सरोज'
चांदनी छाई
रूप की रानी बन
वह लजाई
      -सूर्य नारायण गुप्त
कैसी लड़ाई
मुस्कुराए  पड़ोसी
झगड़ें भाई
      -बलजीत सिंह
मन की रेत
कुरेदी तनिक सी
नमी ही नमी
        -सुरंगमा यादव
फागुन मास
धरा पर चांदनी
करे विलास
        -बलजीत सिंह
जेठ की धूप
मध्यान्ह में अकेली
क्रोध से जली
     -रमेश कुमार सोनी
मरण-शैया
हंसने लगा बूढा
शैशव फोटो
        -तुकाराम खिल्लारे
कैसा शीतल
कल कल बहता
गंगा का जल
        -इंद्र कुमार दीक्षित
अन्दरखाने
क्या कुछ चलता
राम न जाने
       -इंद्र कुमार दीक्षित
धूप में छाँव
माँ, जाड़ों में अलाव
सुहानी शाम
       राजीव गोयल
माँ का आँचल
राहत का बादल
होता संबल
       -राजीव निगम 'राज'
मन गुबार
धुंध ही धुंध छायी
दृश्यता घटी
      -सुरंगमा यादव
रहे न रहे
सिर्फ माँ याद आती
दुःख की वेला
       -रमेश कुमार सोनी
बहला गया
माँ तेरा स्पर्श मुझे
सहला गया
       सूर्य नारायण गुप्त 'सूर्य'

जुगल बंदी

कैसी हो मम्मी
बड़े बच्चे भटके
पूछना भूले
        -रमेश कुमार सोनी
मैया सिकुड़ी
संसार फैलाकर
कोने में पडी
         -अभिशेख जैन
-----------------
जा नहीं सका
खुदा हर घर में
तो माँ भेज दी
       -राजीव गोयल
माँ की ममता
कोई नहीं समता
अतुलनीय
         -रंजना वर्मा
रंग अनंत
रब ने, माँ में उन्हें
किया जीवंत
        सूर्य किरण सोनी 'सरोज'
मातृ दिवस
माँ की तस्वीर पर
फूलों की लड़ी !
        विष्णु प्रिय पाठक
होकर चूर
सपनों का दर्पण
देता चुभन
        -सुरंगमा यादव
हूँ मजबूर
वतन की खातिर
अपने दूर
      सूर्य कारन 'सरोज'
नींद न हंसी
पत्थरों के देश में
प्रीति यूं फंसी
        सूर्य नारायण 'सूर्य'
जग के लिए
संचित करे गुरु
ज्ञान का मधु
       -सुरंगमा यादव
हवा की धुन
थिरकती डालियाँ
पाँव के बिन
        सुरंगमा यादव
लूट ले गया
एक नर पिशाच
कुंवारे ख्वाब
        -राजीव गोयल
नैन प्रपात
भीगे मसि-कागद
लौटी बारात
        पुष्पा सिन्धी
मेघा बरसे
भागी उन्मादी नदी
तोड़ किनारे
       -राजीव गोयल
दुष्ट मनई
जहां रही तहवाँ
करी कनई
        -भीष्म प्रजापति
मेघ चिरौरी
भरो राम तलैया
प्यासी चिरैया
        -सुरंगमा यादव
धुंधला चाँद
क्षितिज छोर पर
निशा का आंसू
        -डा, रंजना वर्मा
मिट्टी का दीया
कुम्हारिन का दर्द
किसने जिया
        सुशील शर्मा
गोधूली शाम
रामधुन के स्वर
ऊंघता गाँव
       -सुशील शर्मा
हो जाती सुखी
निहार रवि मुख
सूरजमुखी
        -कमल कपूर
शाख पे बैठे
शांत और गुमसुम
जवाकुसुम
      -कमल कपूर
गोरे सजीले
सुरभि के टोकरे
श्वेत मोगरे
       -कमल कपूर 
पिरोता रहा
यादों की डोरियों में
आंसू के मोती 
       -राजीव गोयल
चाल में सर्प
श्रृंग से भू पे जल
सद्यस्नाता स्त्री
        -विभा रानी श्रीवास्तव
मेल-मिलाप
जीवन के वृत्त में
खुशी की चाप
         बलजीत सिंह
शुद्ध निश्छल
बहता प्रतिपल
आगत कल
         -सुशील शर्मा
आँखों के घड़े
अंसुअन से भरे
कंठ हैं प्यासे
        -रमेश कुमार सोनी
भोर का रवि
कैसी निराली छवि
तिमिर हवि
         -डा. रंजना वर्मा
प्रेम का सेतु
सहज पूरी हुई
दिलों की दूरी
       -सुरंगमा यादव
रात अंधेरी
गा रही तनहाई
मौन सुनता
      -डा. रंजना वर्मा
मुदित गाँव
पत्तों की पायलिया
वृक्षों के पाँव
        -पुष्पा सिन्धी
समुद्री द्वीप
बलखाती लहरें
मेघ समीप
       -सूर्य करण 'सरोज'










     






सोमवार, 30 अप्रैल 2018

हिंदी के श्रेष्ठ हाइकु, अप्रेल माह

अप्रेल माह के श्रेष्ठ हाइकु

झील में चाँद
उमस भरी रात
नहाने आया
       सुरंगमा यादव
होते ही रात
चली ख़्वाबों के देश
नींद की नाव
       राजेश गोयल
अग्निशामक
जठराग्नि बुझाती
थाली की रोटी
       विष्णु प्रिय पाठक
नेताजी सोये
लच्छेदार भाषण
रद्दी में रोए
        -पुष्प सिन्धी
बात जुबां पे
अधरों तक दूरी
हुई न पूरी
       -सुरंगमा यादव
नंगा चेहरा
कैसे नहीं पढ़ता
खुली किताब
        -विष्णु प्रिय पाठक
तेरे घर का
ठिकाना मैंने जाना
सुवास आया
       -तुकाराम खिल्लारे
चिकनी राहें
फिसल गईं चाहें
अंधेरी रात
      -पुष्पा सिंधी
कटे जंगल
बढ़ा जंगलीपन
खोया इंसान
      सुरंगमा यादव
चाँद सितारे
आओ न किसी दिन
घर हमारे
      सूर्य नारायण गुप्त 'सूर्य'
दंगे -फसाद
किराए के बाराती
खूब ही नाचे
      पुष्पा सिन्धी
नीरव वन
धुन मुरलिया की
हर्षाया मन
        -शिव डोयले
मेघ कहार
दूर देश से आया
लेकर जल
       सुरंगमा यादव
लौटे बादल
करके तांका-झांकी
बिन बरसे
       -सुरंगमा यादव
डूब ही गयी
दुःख के सागर में
चाह सुख की 
        -विष्णु प्रिय पाठक
सफ़ेद पुष्प
नागफनी पौधे पे -
बैठी विधवा
        -विष्णु प्रिय पाठक
तपती रेत
नंगे पाँव दौड़ते
स्वप्न अबोध
       -पुष्प सिन्धी
पानी का मूल्य
पूछो रेगिस्तान से
क्या है कीमत ?
        -राजीव गोयल
दिया सहारा
वक्त पर जिसने
वही हमारा
         -सुरंगमा यादव
देखकर भी \
अनदेखा करता
डरा आदमी
      -शिव डोयले
इंसान बन
पढ़ लेना बाद में
गीता कुरान
          -राजीव गोयल
उड़ा ले गई
दिन के आभूषण
चोरनी शाम
       -अभिषेक जैन
चार दीवारी
बने सीलिंग फैन
घूमती नारी   
        -सुरंगमा यादव
उम्र की राह
कभी सकूँ न मिला
उलझी रही
       प्रियंका वाजपेयी 
कितने लोग ...
घिरे ही रहे हम
पर, तनहा
       -प्रियंका वाजपेयी
चख रही हूँ
थकान के दौर में
श्रम का स्वाद
        -प्रियंका वाजपेयी
मांग में भरा
सांवली बदली ने
इन्द्रधनुष
        -राजीव गोयल
पानी बरसा
साफ़ हो गया सारा
मन कलुष
      - राजीव निगम  'राज़'
स्मृति-प्रदेश
हंसता बचपन
विह्वल मन
         -पुष्प सिंधी
हुए अदृश्य
स्वार्थ के कुहासे में
प्रेम के दृश्य
       अभिषेक जैन
नीला आकाश
मिलता ऊंचाई को
महत्त्व ख़ास
          -बलजीत सिंह
मद में चूर
करते कलंकित
पुरुष क्रूर
        सुरंगमा यादव
प्रभात बेला
मंदिर की घंटियाँ
तोड़ें खामोशी
        -राजीव गोयल
घट आकार
बदले कुम्भकार
मृत्तिका वही
         -सुरंगमा यादव
कैसा दुर्योग?
नाम पर आजादी के
भटके लोग
       -सूर्य नारायण गुप्त
सौन्दर्य नष्ट
पाने को नवजात
माँ झेले कष्ट
        -सूर्य किरण 'सरोज'
ठूँठ हूँ अभी
सहने को तैयार
आरी का वार
        -सुरंगमा यादव
तारों का दल
अँधेरे को दिखाए
अपना बल
        सूर्य किरण 'सरोज'
विकृत मन
मासूमों की सुरक्षा
यक्ष प्रश्न सा
        -सुशील शर्मा
भूख तबाही
विकास की बातें तो
हवा-हवाई
        -सूर्य नारायण गुप्त'सूर्य'
राजा व रैंक
सबके लिए सम
मही का अंक
       -सूर्य कारन 'सरोज'
चीर कलेजा
दिखलाती धरती
मेघ पसीजा
       -सुरंगमा यादव
जुगलबंदी -
------------
निखरे भाव
पहन लिए जब
शब्दों के वस्त्र
       -राजीव गोयल
शब्द सहारे
अर्थ पूरित हुए 
भाव हमारे
      -राजीव निगम 'राज़'
------------------------
नभ से आई
मुंडेर पर बैठी
नन्ही किरण
       -राजीव गोयल
मन आँगन
थिरकते सपने
ऊर्जा भरते
      -सुरंगमा यादव
भ्रमित युवा
तलाशता है रंग
अंधियारों में
      -सुरंगमा यादव
आँखों में  ख़्वाब
लाया था मैं गाँव से
शहर खा गया
        -अमन चांदपुरी
बच्चे में खोई
माँ सुने किलकारी
पाँव हैं भारी
      -अमन चाँदपुरी
दुखों का मेला
गुज़ार दी ज़िंदगी
रहा अकेला
       सूर्य किरण 'सरोज'
अप्प दीपक
जलाते ही आंधियां
हीन परास्त
        -सुरंगमा यादव
तेल न बाती
निज दीपक बन
जलो संघाती
        -सुरंगमा यादव
अज़ीज़ वक्त
बीता संग हबीब
कज़ा क़रीब
       (उर्दू हाइकु)- अमन चाँदपुरी












शनिवार, 31 मार्च 2018

श्रेष्ठ हिंदी हाइकु - मार्च माह

श्रेष्ठ हिन्दी हाइकु - मार्च माह

खेलें वो फाग
बुझ जाए बैर की
दिल से आग
       -सूर्य नारायण गुप्त 'सूर्य'
रोज़ सुबह
अखबार से आए
खूनी बौछार
      -राजीव गोयल
होली की आग
करे भस्म विषमता
लाए समता
       -डा. रंजना वर्मा
नन्द के लाल
लिए रंग गुलाल
राधा बेहाल
       -सुशील शर्मा
पलाश फूल
धरा पर बिखरा
होली का रंग
       -विष्णु प्रिय पाठक
नन्हीं गौरैया
हो चली है विलुप्त
फाग के गीत
      -विष्णु प्रिय पाठक
मैंने जो रचा
सपनों का घरौंदा
वक्त ने रौंधा
      सूर्य नारायण गुप्त
होली तो होली
पर गांठें मन की
क्या तूने खोलीं ?
       -राजीव गोयल
नभ के गाल
उषा करे ठिठोली
मले गुलाल
     -सुरंगमा यादव
पूर्णिमा रात
चन्द्र घट छलका
बिखरी चांदनी
      -सुरंगमा यादव
खिज़ा की मार
दरख्तों ने खो दिया
रूप श्रृंगार
      -राजीव गोयल
बड़े चुभते
कांच की किरच से
टूटते रिश्ते
       सुशील शर्मा
लाल चूनर
गदराया सेमल
युवा बसंत
      -राम कृष्ण त्रिवेदी 'मधुकर'
जुगलबंदी
------------
गहन वन
भूलती पगडंडी
अपना पथ
      -शिव डोयले
जीवन रेखा
पगडंडियाँ  होतीं -
पहाड़ों पर
        -राजीव गोयल
 --------------------
फिर उभरा
यादों के दर्पण में
अक्स तुम्हारा
       -सुरंगमा यादव
सूरज उगा
फूलों पर ठिठका
मोती टपका
       डा. रंजना वर्मा
नन्हीं कोंपल
कंकाल दरख़्त पे
नई ग़ज़ल
       विष्णु प्रिय पाठक
मन में भाव
युद्ध अनवरत
कभी न रुके
      -डा. रंजना वर्मा
नारी की व्यथा
द्रोपदी,मीरा, राधा
सीता की कथा
       -सूर्य नारायण गुप्त 'सूर्य'
रीत जाता है
जीवन अनकहा
बीत जाता है
         -निगम 'राज'
शक्ति स्वरूपा
नारी ही नारायणी
करुणा मूर्ति
       -डा. रंजना वर्मा
अपराजिता.
हर पल प्रिय से
हारती रही
       -सुशील शर्मा
अतिथि जैसा
है महिला दिवस
आया व गया
        -पुष्पा सिन्धी
सबसे न्यारा
जो दूर है सितारा
वही हमारा
       -निगम 'राज़'
सूर्य-घट से
छलके स्वर्ण-कण
रचते धूप
       -कमल कपूर
मन उमंग
स्वार्थ की भीड़ देख
हो गया दंग
       -सूर्य नारायण 'सूर्य'
उठती रही
तेरी याद लहर
मन सागर
       -राजीव गोयल
दौड़ा विकास
टूटी सडकों पर
लुढ़क गया
       विष्णु प्रिय पाठक
उलझे रहे.
शिकायतों का बुना
मकड़ जाल
       सुरंगमा यादव
फूलों की घाटी
हरे-भरे पहाड़
धरा की थाती
       -सूर्य नारायण गुप्त 'सूर्य'
ख़्वाब बांटती
नीद की गलियों में
बावरी रात
       -कमल कपूर
बिना विवाद
छोड़ देते आसन
पात पुराने
        -सुरंगमा यादव
देह ने किया
साँसों से अनुबंध
सच्चा सम्बन्ध
        -पुष्पा सिन्धी
बड़े शहर
छोटा होता जा रहा
'इंसानी' क़द
        -राजीव गोयल
चूर चूर हूँ
टुकड़े  हुआ अहं
स्व से दूर हूँ
       -प्रियंका वाजपेयी
राधा अनंग
रंगी कृष्ण के रंग
गोपियाँ दंग 
      -निगम 'राज़'
ताली बजाती
जूतों का चित्र बना
बेपैर बच्ची
       -पुष्पा सिन्धी
a bird's nest
will never be broken
it's my house
        -Tukaram khillare
घर मेरा है
घोंसला चिड़िया का
तोडूंगा नहीं
         अनुवाद (सु. व.)
कंक्रीट वन
छाँव बरगद की
ढूँढ़ते खग
     - राजीव गोयल
बदली ऋतु
धूप बदहवास
आँगन रोए
      -नरेन्द्र श्रीवास्तव
देखा दर्पण
भूल गए ढूँढ़ना
चाँद का दाग
      -सुरंगमा यादव
प्यासी गौरैया
नदी के तट पर
सकोरा ढूँढे
       - नरेन्द्र श्रीवास्तव
नन्ही गौरिया
दर्पण निहारती
चोंच मारती
      -सुरेश शर्मा
राग दीपक
गौरैया मार रही
टोंटी पे चोंच
       -विष्णु प्रिय पाठक
प्यासे पखेरू
नदी में तलाशते
दो बूंद पानी
       -नरेन्द्र श्रीवास्तव
सजी कविता
पुलकित आखर
श्रृंगार करें
       पुष्पा सिन्घी
खिली धूप  में
होती जब  बारिश
नहाता सूर्य
       -सुरंगमा यादव
गरम हवा
अम्बिया को छू कर
करती जवां
        -सूर्य किरण सोनी
भूला खिलौने
बच्चा बना श्रमिक
प्लेट धो रहा
       -डा, रंजना वर्मा
बारह खड़ी
धूल में उकेरता
श्रमिक पुत्र 
      -डा. रंजना वर्मा
बड़े सकारे
छुट्टन गओ  खेत
भैंस रंभाए
      (बुन्देलखंडी) -नरेन्द्र श्रीवास्तव
तप्त तवे पे
जल बिंदु-सी स्वाहा
क्रोध में मति
        -सुरंगमा यादव
पकते गीत
भावों की अंगीठी पे
कवि के मन
       -राजीव गोयल
बुरा है दौर
लूट के चल दिए
दिन में चोर
        -सूर्य किरण सोनी
उठा सवाल
कब तक बवाल
राम बेहाल
       -डा. रंजना वर्मा
हल्की फुहार
सौन्दर्य का दर्पण
देती निखार
        -वलजीत  सिंह
दृगों के गाँव
बसती छबि राम
स्पंदित प्राण
         -पुष्पा सिंधी
सचेत सीते
कितने ही मारीच
आज घूमते
        -सुरंगमा यादव
आज अचानक
आई कड़वी याद
मन कसैला
        -सुरंगमा यादव
अन्धेरा भी है
जीवन तेरे संग
सवेरा भी है
         -सूर्य नारायण गुप्त 'सूर्य'
जुगलबंदी
-----------
जगत रीत
है झूठा अभिनय
सत्य प्रतीत
        -पुष्पा सिन्धी
जग की रीत
चलदिए पल में
तोड़ के प्रीत
        -सुरंगमा यादव
------------------
घर चौबारे
मेहनत के रंग
सजाते सारे
       -बलजीत सिंह
कैसा स्वराज
कैद है कबूतर
मुक्त है बाज़
       सूर्यनारायण गुप्त 'सूर्य'
जुगलबंदी
-------------
था निर्जीव वो
मिली हवा से सांस
जी उठा बांस
       -राजीव गोयल
मैं बुझा सा था
मिला दोस्तों का साथ
हूँ खिला खिला
       -राजीव निगम 'राज़'
-----------------
--------------समाप्त----------------
     




बुधवार, 28 फ़रवरी 2018

श्रेष्ठ हिन्दी हाइकु -फरवरी, २०१८

आँखों ने बोये
जब नींद के बीज
उगे सपने
      राजीव गोयल
घर बाहर
औरत का संघर्ष
कितने मोर्चे
     -सुरंगमा यादव
नारी विमर्श
कहाँ तक सार्थक ?
आकाश पुष्प
      -पुष्पा सिन्धी
ग्रहण काल
प्रारम्भ हुआ अब
भगवा रंग
        -विष्णु प्रिय पाठ
आंसू की स्याही
औरत लिख रही
आग का गीत
       -शिव डोयले
लाल सलोना
मइया दुलारावे
लगा डिठौना
        -डॉ. रंजना वर्मा
ख़त तुम्हारा
सिरहाने पे रखा
सपनों भरा
      -सुरंगमा यादव
छोटी सी बात
उलझी रह गई
खुली न गाँठ
       -सूर्य किरण सोनी
चाबी न ताले
सपनों के महल
बड़े निराले
       -बलजीत
धूप का स्पर्श
खिल उठी कलियाँ
महकी फ़िज़ा
        -राजीव गोयल
खोलो गवाक्ष
झाँक रही झिरी से
भोर किरण
       सुरंगमा यादव
नन्हा दुलारा
छिपा परदे के पीछे
कहता ढूँढो
        सुरंगमा यादव
मिटी न प्यास
हो गई ज़िंदगी
खाली गिलास
      -सूर्य नारायण गुप्त 'सूर्य'
मेघ बरसे
ठूँठ रहे ठूँठ ही
मूरख जन
      सुरंगमा यादव
रंग न रूप,
प्रतिभा से चमके
जीवन धूप
      *
मिट्टी न धूल
विश्वास से महके
रिश्तों के फूल
       -बलजीत सिंह
पी रही रात
चाँद के सकोरे से
चांदनी जाम
        -राजीव गोयल
जैसा ज़हन
हर किसी की होगी
वैसी कहन
       -निगम 'राज़'
हवा गुज़री
बांसों के ह्रदय में
बजी बांसुरी
       -राजीव गोयल
चन्द्र कलाएं
घटती व बढ़ती
संवेदनाएं
      -पुष्पा सिन्धी
हवा ने छुआ
तालाब के दिल में
स्पंदन हुआ
        -राजीव गोयल
पिघल गई
माँ की प्रकृति सी
मन की व्यथा
    *
छोड़ न पाई
दायित्व, माँ थी न वो
बुद्ध तो नहीं
      -प्रियंका वाजपेयी
विनाश खेल
बेपटरी होकर
खेलती रेल
       -सुरंगमा यादव
वेलैंटाइन डे
-------------
कान्हा है भोला
कोई भी बहका ले
डरे राधिका
       -राजीव गोयल
आँखों में अश्रु
अधरों पर हास
वर्षा में धूप
        -सुरंगमा यादव
प्रेम तुम्हारा
मेरी ताक़त और
मेरा ग़रूर
        *
प्रेम का पौधा
शुभहा की आंधी में
उड़ा समूल
      -सूर्य किरण सोनी
ज़िंदगी जिएँ
भूखे को दो रोटियाँ
'प्रपोज़' करें
       -निगम 'राज़'
मेघ रथ से
उतरी जल परी
वसुधा हंसी
    राजीव गोयल
हंसी में छिपे
जाने कितने राज़
सोच से परे
         -शिव डोयले
दूध क माछी
पड़लि खुद गाढे
अब न नाची
        - भीम प्रजापति
        (भोजपुरी हाइकु)
जुगल बंदी
---------------
एक लालसा
मृग मरीचिका सी
तुम्हें तलाशे
     -सुशील शर्मा
भूला हताशा
चल पडा डगर
लेकर आशा
       -सूर्यनारायण 'सूर्य'
---------------
हँसा फागुन
पुष्पित तन मन
बरसे रंग
        -पुष्पा सिन्धी
चाँद-सितारे
आओ न किसी दिन
घर हमारे
       *
शाम ज्यों ढली
अम्बर में तारों की
झालरें जली
        -सूर्य नारायण 'सूर्य'
कड़ी सुरक्षा
सूरज के घेरे में
पृथ्वी की कक्षा
       -बलजीत सिंह
नन्हे जुगुनू
धरती के सितारे
मन लुभाते
        -डा. रंजना वर्मा
दिल के राज़
चाँद है राज़दार
तन्हा सी रातें
       -सुशील शर्मा
छूने को चन्दा
मचलती लहरें
होड़ मचाएं
       *
सूरज अस्त
समापन नहीं ये
अल्प विराम
       सुरंगमा यादव
मेघ डोली में
बारिश दुल्हनिया
हवा कहार
       -राजीव गोयल
माया का मोह
गुड़ में लगा चींटा
जीवन बीता
        -सुशील शर्मा
रक्त रंजित
मानवता का मुख
धो रहे आंसू
      -सुरंगमा यादव
सुनो तो सही
शान्ति की अभिलाषा
दर्द -ए -दास्ताँ
          -नरेन्द्र श्रीवास्तव
प्यार की धारा
जीवन की नैया को
देती सहारा
        -बलजीत सिंह
दिल की नाव
प्रेम की सरिता में
ले हिचकोले
          -नरेंद्र श्रीवास्तव
चातक प्रेम
आसन्न इंतज़ार
स्वाति की बूँद
         -सुशील शर्मा
जुगलबंदी
------------
आद्र नयन
वियोग का विषाद
पिया की याद
       -सुशील शर्मा
पिया न पास
नयनों से झरती
मिलन प्यास
        -सुरंगमा यादव
---------------
इक ग़ज़ल
खुद के पीछे खड़ी
ज़िंदगी मेरी
          *
गहरी प्यास
उजाला शरबत
पी गई रात
       -पुष्पा सिन्धी
ऋतु अनंग
रतिवासित अंग
मन मतंग
     *
मधुप गान
कलियन वितान
नैनन बान
      -सुशील शर्मा
डाली का फूल
नाज़ुक सी ज़िंदगी
करे क़बूल
      -बलजीत सिंह
फूलों की बातें
हवा हौले से सुने
बुने कहानी
       -पुष्पा सिन्धी
उत्सव बेला
फूलों से सजी खड़ी
बसंत सेना
      - रमेश कुमार सोनी
बीते ज़माने
नीली झील की थाह
कोई न जाने
        -पुष्पा सिन्धी
भोर मुस्काती
सजा रही अल्पना
फूलों के द्वार
       -शिव डोयले
बासंती सिला
भूल जाते मित्रों का
शिकवा गिला
        -भीम प्रसाद प्रजापति
नींद न हँसी
पत्थरों के देश में
प्रीत यूं फंसी
        - सूर्य नारायण 'सूर्य'
चिर उर्वरा
मिट्टी है रत्नगर्भा
सृजन सर्ग
        -सुशील शर्मा
जुगलबंदी
-----------
आंसू से लिखा
पत्र वाँचते रहे
देव पत्थर
      -नरेन्द्र श्रीवास्तव
क्या पता कब
देवता बन जाए
कोई पत्थर
       -सुरंगमा यादव
--------------
आंधी में धूल
अपना ठौर भूल
हुई बावरी
       -सुरंगमा यादव
युगों से खड़े
अधर देहरी पे
शापित गीत
       पुष्पा सिन्धी
दीप डंसते
अंधेरों के भुजंग
दम तोड़ते
       -राजीव गोयल
जय जवान जय किसान
-------------------------
देश की मिट्टी
प्यार से भरी चिट्ठी
माता ने लिखी
        -रंजना वर्मा
खेतों की माटी
चन्दन सी शोभित
कृषक तन
        -सुरंगमा यादव     
-----------------------
स्वर्गीय डा. भगवतशरण अग्रवाल को उनके ८८वें जन्म दिन पर
श्रृद्धांजलि अर्पित करते हुए सत्रह आखर में उनकी पांच श्रेष्ठ रचनाएं -

धन्य है वर्षा
खेतों में कवितायेँ
बोते किसान

लू से झुलसी
जेठ की दुपहरी
कराहे पंखे

फूला पलाश
यादों के दीप सजा
आया बसंत

पसर गई
सरसों फूली शैया
माघ की धूप

कभी न जीती
मौत से जिंदगानी
हार न मानी
-------------------------------
श्रद्धांजलि
-----------
देव गमन
भगवतशरण
सदा स्मरण
        -नरेन्द्र श्रीवास्तव
बुझ गई लौ
अब तो चमकेंगे
तारों में हम
        -सुरंगमा यादव
--------------
भोर का फेरा
उजाला नहीं रुका
रोज़ का डेरा
        -रमेश कुमार सोनी
भौंरे बावरे
प्रणय रस दूबे
ऐसे सांवरे
        -निगम 'राज़'
क्या है संयम
अपने ही विरुद्ध
शाश्वत युद्ध
       -राजीव गोयल
रात पूनम
आँगन में चुगता
युगल पंछी
         -विष्णु प्रिय पाठक
माथे पे लिखा
कैसे पढ़ती आँखें
भाग्य विधान
    *
कहना चाहे
मन कितना कुछ
शब्द तो मिलें
       -सुरंगमा यादव
फागुनी फाग
झुर्रीदार गाल पे
खिला गुलाल
      -विष्णु प्रिय पाठक
------------------------------------
---------------------समाप्त -------

बुधवार, 31 जनवरी 2018

श्रेष्ठ हिन्दी हाइकु - जनवरी, २०१८

श्रेष्ठ हिन्दी हाइकु - जनवरी माह

नूतन वर्ष
जीवन में ले आए
हर्ष ही हर्ष
      बी पी प्रजापति
अभिनन्दन
नव वर्ष तुम्हारा
अतिथि देव
       नरेन्द्र श्रीवास्तव
अभी जन्मा है
जैसा चाहो ढाल लो
साल बच्चा है
       -राजीव गोयल
घर चौबारे
मेहनत के रंग
सजते द्वारे
       -बलजीत सिंह
दिन पहाड़
थक के सोई रात
स्वप्न देखती
      नरेंद्र श्रीवास्तव
लचक गई
हवा का रुख देख
बाल न बांका
       -सुरंगमा यादव
भोर से आस
सांझ से शिकायत
यही ज़िंदगी
        -नरेन्द्र श्रीवास्तव
वक्त कमबख्त
बदले करबट
वक्त बेवक्त
       -डॉ. रंजना
रस्सी सा ऐंठा
गुरूर में अकड़ा
आँखों से गिरा
       -सुरंगमा यादव
दंगा सुर्खियाँ ..
मुंह में रह गया
चाय का घूँट
       -विष्णु प्रिय पाठक
अनाथ बच्चा
मांगे की शर्ट छपा
"ओ मेरी मैय्या "
      विष्णु प्रिय पाठक
जन्म मरण
जीव का व्याकरण
आवागमन
       -निगम 'राज़'
सरे बाज़ार
अपहरित धूप
लोग मौन हैं
       दिनेश चन्द्र पाण्डेय
सागर तट
बालक बना रहा
रेत का घर
      -विष्णु प्रिय पाठक
विश्व हमारा
कुदरत का प्यारा
एक तोहफा
       -वलजीत सिंह
 घरों में उठीं
लालाच की लपटें
बहुएं जलीं
       -राजीव गोयल
शीत शर्बरी
रतिपति चलाए
कुसुम बाण
        *
शीत ऋतु में
नदी पे बन गए
बर्फ के पुल
       -सूर्य करण सोनी
नव वर्ष में
बदलें परिधान
वृक्ष महान
      *
भंवरे गाएं
पल्लवित पुष्पों पे
मधुर गान
        -सूर्य करण सोनी
खंगाला वक्त
चाँद हीरे यादों के
आ गए हाथ
     -राजीव गोयल
अंधेरी रात
कोहरे के व्यूह में
स्ट्रीट लाइट
       -विष्णु प्रिय पाठक
बरछी भाले
आत्मरक्षा की चाह
मौत हवाले
        -बलजीत सिंह
पतंग कटी
ऊंची उड़ान टूटी
धरा पे लुटी
       -निगम 'राज़'
गोधूलि वेला
समेट रहा रवि     
धूप के पर
         -राजीव गोयल
छूना आकाश
संघर्ष है कठिन
उडी पतंग
      *
नभ में देख
पतंगों की उड़ान
पक्षी हैरान
        -सुरंगमा यादव
शीत त्योहार
अलाव के सम्मुख
ठण्ड कथाएँ
        -नरेन्द्र श्रीवास्तव
मैंने जो रचा
सपनों का घरौंदा
वक्त ने रौंधा
       -सूर्य नारायण गुप्त
स्नेह का खेल
सरसों में लिपटी
मटर बेल
       -विष्णु प्रिय पाठक
मन तो रहा
मनमीत में डूबा
दर्द ही सहा
       -निगम 'राज़'
बीहड़ रास्ते
बेपरवाह नदी
मिलन धुन
      -सुरंगमा यादव
बड़ा खज़ाना
बीते हुए वक्त के
वो छोटे लम्हे
       -राजीव गोयल
शाम हो गई
ज़िंदगी का झमेला
लीजे समेट
         -डॉ. रंजना वर्मा
सूखी नदिया
भूखे प्यासे बगुले
टूटी उम्मीदें
        -नरेन्द्र श्रीवास्तव
आया बसंत
आगत स्वागत को
सजा निसर्ग
       दिनेश चन्द्र पाण्डेय
रंग उमंग
नवल कोपलों से
नव सृजन
      -प्रीती दक्ष
पवन बही
भंवर चूम रहे
सुमन सुख
      डा. रंजना वर्मा
बसंत ऋतु
दिन पतंग हुए
रात सरसों
       -नरेन्द्र श्रीवास्तव
बसंतोत्सव
मदन साध रहा
पुष्पों के बाण
        -सुरंगमा यादव
बसंतोत्सव
ओढ़ पीली चूनर
झूमी सरसों
        -राजीव गोयल
शाल पलाश
रसवंती कामिनी
महुआ गंध
       -सुशील शर्मा
कोई न सगा
साथी बन सुख का
सब ने ठगा
      -सूर्य नारायण 'सूर्य'
सबका हक़
हमारा गणतंत्र
सबकी हद
       नरेन्द्र श्रीवास्तव
उनका भी हो
गणतंत्र दिवस
मोहताज जो
       -दिनेश चन्द्र पाण्डेय
मैदान खाली
मोबाइल ले गया
बच्चों की गेंद
        -दिनेश चन्द्र पाण्डेय
सांवरे बिन
नींद न आये चैन
न कटे रैन
      -डा. रंजना वर्मा
राष्ट्रीय पर्व
फेसबुक पे दिखे
तिरंगा ध्वज
      -विष्णु प्रिय पाठक
बहा ले गई
बचपन घरौंदा
वक्त लहर
      राजीव गोयल
सूर्यास्त हुआ
घर घर चमके
अपने सूर्य
      -सुरंगमा यादव
बादल ओट
हटा के चन्दा देखे
कितनी रात 
        सुरंगमा यादव
मौन ही सही
पुकारता तो रहा
अंतर-मन
        -प्रियंका वाजपेयी
खिल न पाई
मन की पूर्णमासी
लगा ग्रहण
        -प्रियंका वाजपेयी 
-----------------------------
---------------समाप्त ----

बुधवार, 20 दिसंबर 2017

श्रेष्ठ हिन्दी हाइकु - २०१७, दिसंबर माह

श्रेष्ठ हिन्दी हाइकु -२०१७, दिसंबर माह

तुम्हारा मन
चिड़िया सा चहका
मैं क्यों बहका
       -सुशील शर्मा
तुम्हारे लिए
रेत पर उकेरे
मन के भाव
       -सुशील शर्मा
दर्द छिपा है
मन में ऐसे,  जैसे
रेत में नमी
        -सुरंगमा यादव
पाषाण खंड
किनारे से निकली
हरित दूब
       विष्णु प्रिय पाठक

जुगल बंदी --
       *
थर्मामीटर
टेबल पर गिरा
ओस की बूँदें
       -विष्णु प्रिय पाठक
पारा सरीखे
ढलके अश्रु-बिंदु
कपोल भू  पे
       -डा. रंजना वर्मा
        *
शहर बड़ा
हर एक आदमी
अकेला खड़ा
        सुशील शर्मा
कशमकश
तुझे मैं याद रखूँ
या भूल जाऊं
        -सुशील शर्मा
नई कहानी
खुदा की मुझपर
मेहरबानी
        -निगम 'राज़
लफ्जों की लेखी'
रचती इतिहास
पढ़ती सदी
       -निगम 'राज़'
जागा संसार
गंध बाँट सो गया
हरसिंगार
      डा. शिवजी श्रीवास्तव
लगती भली
धूप अगहन की
माँ की गोद सी
       -शिव जी श्रीवास्तव
बनी कहानी
महकी रात भर
रात की रानी
        -निगम 'राज़'
लापरवाही
कागज़ न कलम
खरीदी स्याही
       -बलजीत सिंह
सत्संग हॉल
लाउडस्पीकर से
शान्ति का पाठ
         -अभिशेख जैन
दिव्यांग बाला
मुख से बना रही
हाथ का चित्र
        -विष्णु प्रिय पाठक
मन धरती
नव आशा अंकुर
लहक उठा
       -सुरंगमा यादव
भौरों का कोप
मुरझा गए फूल
डरी कलियाँ
        -अमन चांदपुरी
आंधी तूफ़ान
बादलों की ओट में
छिपा सूरज
        -शिव डोयले
मन नाविक
तन नौका लेकर
दौड़ता फिरे
       -सुरंगमा यादव
मन है ऐसा
निपुण निदेशक
नाच नचाए
       -सुरंगमा यादव
भट्टी की राख
ढूँढ़ते घूमे कुत्ते
ठण्ड में रोते
        सुरंगमा यादव
रश्मि के पैर
चल पड़े करने
धरा की सैर
        अभिषेक जैन
रवि ने बुना
किरणों के धागे से
धूप दुशाला
       -राजीव गोय
लक्ष्य विहीन
इत उत डोलती
जीवन नैया
       -सूर्य किरण सोनी
स्वर्ण रश्मियाँ
झिलमिल नदिया
दीपशिखा सी
        -सरंगामा यादव
शब्द कांटे भी
गुलाब के जैसे भी
छूकर देखें
         -नरेन्द्र श्रीवास्तव
नारी जीवन
आँगन की तुलसी
काशी मथुरा
       -शिव डोयले
आसमां परे
ज़रूर कुछ तो है
खोजे परिंदा
       जितेन्द्र वर्मा 
पूस की ठण्ड
रात खोजती रही
सूर्य दुशाला
       -नरेन्द्र श्रीवास्तव
ओढ़ रजाई
शाम से सोया सूर्य
उठा देर से
       सुरंगमा यादव
भाई है खूब
कतरा भर मिली
जाड़े की धूप
       -निगम 'राज़'
निर्मल जल
बहता कल कल
पर्वत पुत्र
      -डा. रंजना वर्मा
रहता रोता
बहता हुआ सोता
चुप न होता
        -डा. रंजना वर्मा
हम हैं तने
समय के सामने
विद्रोही बने
      -निगम 'राज़'
नाजों से पाला
पिजरा जब खुला
तोता जा उड़ा
        दिनेश चन्द्र पाण्डेय
तप में लीन
धवल वसन में
खड़ा  हिमाला
      -दिनेश चन्द्र पाण्डेय
दस्तक भोर
उजालों ने उखाड़ी
रात कनात   
      -दिनेश चन्द्र पाण्डेय
स्वाति बूंद-सा
प्रेम बना है मोती
मन सीपी में
      सुरंगमा यादव
बड़े ज्ञाता हो
मौन का अनुवाद
कर पाओगे  ?
      -पुष्पा सिन्धी
कैसी गरीबी
बदल लें नज़र
लोग करीबी
       -बलजीत सिंह
ढूँढे न मिले
गौरैया व आँगन
दोनों ही गुम
       -सुरंगमा यादव
छोटा जीवन
किन्तु महत्वपूर्ण
जैसे वसंत
       -निगम 'राज़'
सबको भाता
देहरी पे सूरज
जब भी आता
       -निगम 'राज़'
पिता का मन
मधुर नारियल
बाहर सख्त
       -सुरंगमा यादव
बर्फ सी सर्दी
धुनियाँ की दूकान
हुई सफ़ेद
        -दिनेश चन्द्र पाण्डेय
विद्या विहीन
कुर्सी पर पसरे
हम ही चुनें
        -विष्णु प्रिय पाठक
भरने न दें
कलेजे के ज़ख्मों को
यादों के तीर
         -राजीव गोयल
सूप ज़िंदगी
दुःख नमक बिना
बड़ी ही फीकी
       -राजीव गोयल
पूस की रात
कम्पित दीप की लौ   
दादी के हाथ
         -विष्णु प्रिय पाठक
हर दीवाली
भगाया दरिद्दर
रहे निर्धन
       सुरंगमा यादव
तडपे प्यासी
एक स्वाति  के लिए
पानी में सीप
       -राजीव गोयल
ऋतु हेमन्त
प्रकोष्ठ में कांपती
गुलदावरी
        -विष्णु प्रिय पाठक
माँ के हाथ की
घी चुपड़ी पनेथी
यादों में शेष
        -सुरंगमा यादव
अम्मा का ख़त
आँख हो गई नम
सीली फिजाएं
       -राजीव गोयल
जलते बल्ब
रात पहाड़ पर
तारे जा  बसे
        -दिनेश चन्द्र पाण्डेय
सूर्य को देख
अकेला चमकता
लाखों में एक
      बलजीत सिंह     
दौड़ती हुई
न जाने कहाँ चली
व्यस्त ज़िंदगी
        -प्रियंका वाजपेयी
मैके की याद
छौंक रही बहू
दाल के साथ
       -अभिषेक जैन
 जीवन पोथी
श्वेत पृष्ठ है कोई
कोई धूमिल
       -सुरंगमा यादव
जो स्मृतियाँ हैं
मन के आँचल में
तितलियाँ हैं
      - निगम 'राज़'
पुरवा आई
चन्दन वन से वो
खुश्बू लाई
        -सूर्य नारायण गुप्ता 'सूर्य'
गर्दन झुका
जोड़े मोबाइल में
अंजाने रिश्ते
        *
गर्दन तान
तोड़ देता अपने
पुराने रिश्ते
       - राजीव गोयल
नीरव रात
व्याकुल पुकारता
मन पपीहा
       -सुरंगमा यादव
पहाड़ यात्रा
सौन्दर्य की बारातें
नाचती आँखें
        दिनेश चन्द्र पाण्डेय
प्यारा सा गाँव
तालाब का किनारा
नीम की छाँव
       बलजीत सिंह

जुगल बंदी

ठूँठ पे बैठा
एक अकेला पक्षी
दोनों उदास
       सुरंगमा यादव
अकेला पंछी
रहेगा कब तक
ठूँठ के साथ ?
        -राजीव गोयल
---------------------
रेत बिखरी
सागर के किनारे
मोती न मिले
        डॉ रंजना वर्मा
पूस की धूप
जवानी से पहले
आया बुढ़ापा
        -सुरंगमा यादव
सैंटा की राह
मैया देखती रही
वृद्ध आश्रम
        - अभिषेक जैन
मर्यादा मान
लक्ष्मण रेखा जैसी
ना जाना लांघ
       -सूर्य किरण सोनी
मन पिघला
बह चली आँख से
करुणा धार
        -सुरंगमा यादव
कैसे बढाएं
अमन का क़दम
लुटे हैं जूते
        -विष्णु प्रिय पाठक
तीन तलाक़
हंसती ज़िंदगी से
किया मज़ाक़
       -भीम प्रसाद प्रजापति
छोटा अनार
हज़ार मोतियों का
उठाए भार
      -बलजीत सिंह
आंसू देकर
नींद हमारी लेकर
हा ! सोए तुम
       -सुरंगमा यादव

जुगलबंदी
-----------
लिख रहा हूँ
ज़िंदगी की किताब
वक्त के पन्ने
       शिव डोयले
लिख रही है
ज़िंदगी की किताब
वक्त की स्याही
        राजीव गोयल
-------------
भौरों ने गाया
फूल बनती गईं
कलियाँ सभी
        -दिनेश चन्द्र पाण्डेय
म्यूजियम में
बनावटी पुतले
शहरी लोग
      -सुरंगमा यादव
नव डायरी
लिखूँ तेरा ही नाम
अधूरा ख़्वाब
       -विष्णु प्रिय पाठक
सरक रहा
छोड़ याद केंचुली
पुराना साल
       -राजीव गोयल
नव वर्ष में
करें नए संकल्प
बीती बिसार
         -सुरंगमा यादव
नव वासर
हर पल नवीन
बुनता साल
        -दिनेश चन्द्र पाण्डेय     
-------------------------------
------------------समाप्त ----